क्रियापद

किसी कार्य के किए जाने या घटित होने का बोध कराने वाले शब्द अथवा शब्द समूह को क्रिया कहते हैं। पहाड़ी क्षेत्र में सामान्य सहायक क्रिया दो रूपों में प्रचलित है। चम्बयाली, कांगड़ी, कहलूरी और मण्डियाली में संस्कृत ‘भू’ धातु से तथा सिरमौरी, बघाटी, महासुई तथा कुलुई में सं० ‘अस्’ धातु से व्युत्पन्न रूप प्रचलित हैं। चम्बयाली की उप बोली गादी में संस्कृत ‘भू’ के निकटतम रूप विद्यमान हैं। वहां सं० भू-भव का मूल अक्षर ‘भू’ सुरक्षित है और लिंग-वचन के आधार पर इसका प्रयोग मिलता है, यथा- अजगर इढ़ी न भुंदे। यहां अजगर भी संस्कृत का शब्द है, इढ़ी सं० अत्र का तद्भव रूप है तथा भवन्ति’ से मुंदे। पुंल्लिंग एकवचन के साथ यह ‘ शृंदा’ और स्त्रीलिंग में ‘भुंदी’ हो जाता है- म्हँईरा गोबर अपान भुंदा ‘भैंस का गोबर अपवित्र होता है’, दाल खरी भुंदी ‘दाल अच्छी होती है। परन्तु मूल सहायक क्रिया में ‘भू’ धातु ‘हो’ तथा ‘है’ में बदल जाती है। चम्बयाली तथा कांगड़ी में ‘है’ महाप्राण के कोमल होने पर ‘ए’ में बदल जाता है जो लिंग और पुरुष के आधार पर समान रहता है। बहुवचन में कांगड़ी में ‘हन’ और चम्बयाली में ‘हिन’ रूप धारण करता है। मण्डियाली और बिलासपुरी में पुंल्लिंग एकवचन ‘हा’, बहुवचन ‘हे’ तथा स्त्रीलिंग के लिए ‘ही’ का प्रयोग होता है।

              पहाड़ी भाषा की शेष बोलियों में सहायक क्रिया सं० ‘अस्’ धातु से व्युत्पन्न हुई है- अस्ति > अस्सि > आसा। ‘आसा’ शब्द ‘है’ के अर्थ में जौनसारी, सिरमौरी, बघाटी, भद्रवाही और पंगवाली क्षेत्र में आम प्रचलित सहायक क्रिया है। ध्वनि परिवर्तन के कारण महासुई में यह ‘ओंसो’ में बदल जाता है और कुछ क्षेत्रों में केवल ‘असा’ रह जाता है।

 

से छोह्टू ओॅसोॅ                                                                          ‘वह लड़का है’

हऊं छोह्टू ओॅ सोॅ                                                                      ‘मैं लड़का हूं’

से छोह्टे आसा                                                                          ‘वह लड़की है’

तेहे भौरी छोह्टू आसा                                                                ‘वहां बहुत लड़के हैं

हामे छोह्टू आसा                                                                      ‘हम लड़के हैं’ 

       पंगवाली में ‘है’ के लिए ‘असा’, ‘हैं’ के लिए ‘असे’ और स्त्रीलिंग में ‘असी’ रूप प्रयुक्त होते हैं।

                     कुलुई में ‘आसा’ शब्द में ‘आ’ का लोप होकर केवल ‘सा’ का प्रयोग होता है। इसमें लिंग और पुरुष के आधार पर कोई अन्तर नहीं आता –

हाऊं/तूसो औखेॅ सा                                                                 ‘मैं/तू। वह यहां है। 

शोहरू कोॅ सा                                                                         ‘लड़का कहां है’ 

शोहरी पारे सा                                                                         ‘लड़की उस पार है’

              बहुवचन में ‘सा’ का रूप ‘सी’ हो जाता है, यथा- आसे/तुसे/ते रांबड़े सी ‘हम/तुम/वे कुशल हैं।

             अस्ति से व्युत्पत्ति के कारण इन बोलियों में नकारात्मक सहायक क्रिया ‘नाथी’ है (नास्ति > नाथी), जो लिङ्ग-वचन के आधार पर समान रहता है, जैसेशौरा/शौशू घोंरा नाथी/नी औथी ‘ससुर/सास घर पर नहीं हैं।

             संस्कृत ‘भू’ (भव) धातु से व्युत्पन्न ‘हो’ धातु (भू > भव > भो > हो) और ‘हुणा’ या ‘होणा’ क्रिया का भी समस्त पहाड़ी बोलियों में आम प्रचलन है। यह लिङ्ग व वचन के आधार पर बदलता है –

माह्ते / मेते एह कम्म नी हुणा / होणा,                                 ‘मुझ से यह काम नहीं होगा’ 

माह्ते/मेते ए कम्म नी हुणे/होणे                                           ‘मुझ से ये काम नहीं होंगे’ 

माह्ते/मेते एह कमाई नी हुणी/होणी                                   “मुझ से यह कमाई नहीं होगी’

            महासु में इसके रूप इस प्रकार होंगे-

मूंकु एओ काम नाईं होणोॅ                                                      ‘मुझ से यह काम नहीं होगा

मूंकु एज़ा काम नाईं होणा                                                      ‘मुझ से ये काम नहीं होंगे’ 

मूंकु ए कमाई नाईं होणे                                                        ‘मुझ से यह कमाई नहीं होगी

           सहायक क्रिया के भूतकालिक रूप बाहरी पहाड़ी में हिन्दी की तरह ‘था’, ‘थे’ और ‘थी’ प्रचलित हैं, जिनका प्रयोग हिन्दी के समान है-

मुण्डु बैठरा था                                                                       ‘लड़का बैठा था’ 

लोक बैठरे थे                                                                         ‘आदमी बैठे थे

कुड़ी बैठरी थी                                                                      ‘लड़की बैठी थी’ 

              भीतरी पहाड़ी में कुलुई को छोड़कर सभी बोलियों में ये रूप ‘थिया’,

‘थिए’ और ‘थी’ बनते हैं-

से कामा खे गया थिया                                                            ‘वह काम पर गया था

से कामा खे गए थिए                                                               ‘वे काम पर गए थे

से कामा खे गई थी                                                                 ‘वह काम पर गई थी’

                        चम्बयाली –

से कम्मा पर गया थिया                                                           ‘वह काम पर गया था

से कम्मा पर गए थिए                                                              ‘वे काम पर गए थे

से कम्मा पर गई थी                                                                 ‘वह काम पर गई थी’

कुलुई में सहायक क्रिया का भूतकालिक शब्द केवल एक ही है- ‘थी’, जो लिङ्ग, वचन और पुरुष किसी भी स्थिति में बदलता नहीं –

शोहरू तकड़ा थी                                                                   ‘लड़का कुशल था’

शोहरी तकड़ी थी                                                                   ‘लड़की कुशल थी।

सेभ शोहरू तकडे थी                                                            ‘सब लड़के कुशल थे’

 हाऊं तूसो तकड़ा थी                                                             ‘मैं/तू/वह कुशल था’

असे/तुसे/ते तकड़े थी                                                            ‘हम/तुम/वे कुशल थे

      सामान्य भविष्यत् काल में भी दो तरह के प्रत्यय प्रचलित हैं। बाहरी पहाड़ी में हिन्दी की तरह गा-गे-गी प्रत्ययों का प्रयोग होता है-

हऊं/तू/से झूठ नी बोलगा                                                     मैं/तूवह झूठ नहीं बोलेगा’

असे/तुसें/स्यों झूठ नी बोलगे                                                ‘हम/तुम/वे झूठ नहीं बोलेंगे’

कुड़ी/दादी झूठ नी बोली                                                     ‘लड़की/दादी झूठ नहीं बोलेगी’

                                      भीतरी पहाड़ी में ये प्रत्यय ला-ले-ली हैं-

हाऊं झूठ नी बोलला                                                           ‘मैं झूठ नहीं बोलूंगा’

तूसो झूठ नी बोलला                                                            ‘तू/वह झूठ नहीं बोलेगा’

आसे/तुसे/से झूठ नी बोलले                                               ‘हम/तुम/वे झूठ नहीं बोलेंगे’

शोहरी झूठ नी बोलली                                                       ‘लड़की झूठ नहीं बोलेगी

                     धातु : पहाड़ी की हर प्रकार की क्रिया का धातु रूप ‘वर्तमान आज्ञार्थ’ का द्योतक है –

तू रोटी खा                                       “तू रोटी खा’

तू पोढ़दा जा                                     ‘तू पढ़ने जा

तू घरा जो जा                                   ‘तू घर को जा’

तू पाणी लेई आ                                 ‘तू पानी ला’

         यहां खा, जा, आ धातु हैं और वर्तमान आज्ञार्थ अभिव्यक्त कर रहे हैं।

        बहुवचन या आदर सूचक आज्ञार्थ के लिए मूल धातु में ‘आ’ या ‘ओ’ जोड़ा जाता है –

तुसां घरा जो जाआ                                 ‘आप घर को जाओ’ 

तुसें सोंदे जाओ                                      ‘आप सोने जाओ’ 

तुसे सब खेचों के डेओ                            ‘तुम सब खेतं को जाओ’ 

तुसां अपणा कम्म करा                           ‘तुम सब अपना काम करो’ 

                     मूल धातु में ‘णा’ जोड़ने से सामान्य क्रिया बनती है– 

धातु                           क्रिया 

चाख                           चाखणा  चखना’ 

गांठ                            ग़ांठणा   ‘गांठना’ 

टिक                           टिकणा  ‘टिकना’ 

तौछ                           तौछणा   छीलना’ 

गोट                            गोटणा   ‘रोकना’ 

झास                           झासणा   ‘भूनना’

र, ड, ढ, ल और ण से अन्त होने वाली धातुओं की स्थिति में क्रिया का ‘णा’ प्रत्यय श्रुति के कारण ‘ना’ में बदलता है-

धातु                               क्रिया 

केर                                केरना 

पेर                                 पेरना

बुण                                बुणना 

सुण/शुण                       सुणना/शुणना 

भाल़                               भाल़ना ‘देखना 

पढ़                                पढ़ना

लड़                               लड़ना

           प्रेरणार्थक क्रिया : पहाड़ी की सभी बोलियों में प्रेरणार्थक क्रियाओं का प्रत्यय हिन्दी और पंजाबी से भिन्न है। पहाड़ी में यह प्रत्यय ‘आ’ है, जो श्रुति के कारण ‘या’ भी हो जाता है, जबकि हिन्दी और पंजाबी में प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया ‘ला’ प्रत्यय से बनती है –

क्रिया                        हिन्दी/पंजाबी                    पहाड़ी 

सोना                    सुलाना                                 सुआणा 

खाना                    खिलाना                              खुआणा/खियाणा 

सीना                    सिलाना                               सुआणा/सियाणा 

देना                     दिलाना                                दुआणा/दियाणा

धोना                    धुलाना                                 धुआणा

      यह उल्लेखनीय है कि प्रेरणार्थक क्रिया बनने से पूर्व एकाक्षरीय धात का दीर्घ स्वर ह्रस्व बन जाता है- ‘सो’ मूल धातु ‘सुआ’ प्रेरणार्थक धातु । कुछ और उदाहरण देखे जा सकते हैं –

मूल धातु     मूल क्रिया   प्रेरणार्थक धातु    प्रेरणार्थक क्रिया 

ढो               ढोणा            ढुआ                      ढुआणा 

पी             पीणा          पिआ > पिया             पियाणा 

खा          खाणा          खिया                         खियाणा

कृदन्त

      धातु जब अपने स्वरूप में कुछ प्रत्यय जोड़ कर क्रिया के बजाए कोई और अर्थ दे दे तो उसे कृदन्तीय रूप कहते हैं। पहाड़ी में धातुओं के कृदन्तीय रूपों का बहुत प्रयोग होता है। ऐसा कृदन्तीय रूप कई बार संज्ञा, विशेषण या क्रिया-विशेषण के रूप में प्रयुक्त होता है। मूलतः निम्नलिखित कृदन्त विशेष महत्त्व रखते हैं।

(1) क्रियार्थक संज्ञा

      धातु में ‘णा’ या ‘ना’ जोड़ने से जो सामान्य क्रिया बनती है उसका मूल रूप में प्रयोग संज्ञा के समान होता है- ‘मिंजो पढ़ना नी आंदा’- इस वाक्य में यद्यपि ‘पढ़ना’ सामान्य क्रिया का रूप है, परन्तु अर्थ की दृष्टि से यह क्रिया नहीं संज्ञा है क्योंकि वाक्य का अर्थ है कि मुझे पढ़ाई-लिखाई नहीं आती। इसी तरह। ‘बोहू कोमे रे कारण मुंबे राती सोणा नी मिलदा’ अर्थात् अधिक काम के कारण मुझे सोना नहीं मिलता, यहां भी ‘सोणा’ नींद के अर्थ में ही प्रयुक्त हुआ है। इस कृदन्त को क्रियार्थक संज्ञा कहते हैं और यह सर्वदा पुंल्लिंग के रूप में प्रयुक्त होता है‘मुंखे खाणा नी रुचदा’ वाक्य में स्त्रीलिंग रूप ‘रुचदी’ नहीं हो सकता। इसी तरह ‘आया मरना ओ, मोहणा आया मरना। तेरे भाइयां रीयां कितियां आया मरना’ (लोक गीत)। यहां ‘मरना’ का अर्थ मौत (मृत्यु) है जो स्त्रीलिंग है, परन्तु मरना पुंल्लिंग है। जब इसका सविभक्ति रूप प्रयुक्त होना हो तो ‘णा’ या ‘ना’ प्रायः णे-ने में बदलता है- एथी लड़ने रा कम नी हा, सोचणे रा समय नाथी आदि।

(2) वर्तमानकालिक कृदन्त

       क्रिया की धातु. में ‘दा’ जोड़ने से वर्तमानकालिक कृदन्त बनता है, यथा ‘बुणना’ क्रिया की ‘बुण’ धातु में ‘दा’ प्रत्यय जोड़ने से ‘बुणदा’ रूप वर्तमानकालिक । कृदन्त हुआ। इसी तरह लिख धातु से लिखदा, बोल से बोलदा, सुण से सुणदा आदि। वर्तमानकालिक कृदन्त मुख्यतः विशेषण के रूप में प्रयोग में आता है और यह आ-अन्त विशेषण की तरह विशेष्य के लिंग-वचन के अनुसार बदलता हैउड़दा तोता, उड़दे तोते, उड़दी चिड़ी। स्वरान्त धातुओं की स्थिति में ‘दा’ से पहले अनुनासिकता आ जाती है, जैसे खा से खांदा, जा से जांदा, पी से पदा, रो से रोंदा आदि।

(3) भूतकालिक कृदन्त

       हिमाचली की बाहरी शाखा की बोलियों में भूतकालिक कृदन्त धातु में ‘या’ जोड़ने से बनता है, यथा- धोणा क्रिया की ‘धो’ धातु से ‘धोया’, ‘खा’ से ‘खाया’, ‘पी’ से ‘पीया’ आदि। व्यंजनान्त धातु में अनेक बार इसे ‘एया’ जोड़ने से भी लिखा जा रहा है, जैसे- ‘लिख’ धातु से ‘लिखया’ या ‘लिखेया’, ‘सुण’ से सणया-सुणेया, ‘मार’ से मारया-मारेया आदि। बहुवचन में स्वरान्त धातु में ‘ए’ का संयोग होता है तथा व्यंजनान्त में शब्द एकारान्त हो जाता है और स्त्रीलिंग एकवचन तथा बहुवचन की स्थिति में ईकारान्त हो जाता है- धोया-धोए-धोई, मारा-मारेमारी, लिखा-लिखे-लिखी आदि।

          भीतरी शाखा की बोलियों में सिरमौरी, बघाटी तथा महासुई में भूतकालिक कृदन्त का प्रत्यय ‘आ’ या ‘ओं’ तथा कुलुई का ‘ऊ’ है, जो पुंल्लिंग बहुवचन में एकारान्त तथा स्त्रीलिंग एकवचन तथा बहुवचन में ईकारान्त हो जाते हैं- छ़ोह्टुऍ भात नी खाओॅ, छोह्टुऍ फल नी खाए, छोह्टुऍ खीर नी खाई।

कालरचना

         पहाड़ी के भूतकाल, सामान्य भविष्यत् तथा वर्तमान आज्ञार्थ का विवेचन पीछे किया गया है। शेष बारह कालों में से छह की रचना वर्तमानकालिक कृदन्त । तथा अन्य छह की भूतकालिक कृदन्त के सहयोग से होती है। इनका विवरण निम्न . रूप से है। यहां बाहरी शाखा के अनुसार विवेचन किया जा रहा है। इसी अनुकूल भीतरी शाखा की बोलियों की भी

अभिव्यक्ति हो जाएगी :-

(1) सामान्य संकेतार्थ- घोड़ा उठदा, घोड़े उठेदे, घोड़ी उठदी, घोड़ियां उठदिया। 

(2) सामान्य वर्तमान – घोड़ा उठदा ए, घोड़े उठदे हन, घोड़ी उठदी ए, घोड़ियां उठदियां हन। 

(3) अपूर्ण भूत – घोड़ा उठदा था, घोड़े उठदे थे, घोड़ी उठदी थी, घोड़ियां उठदियां थियो।

(4) सम्भाव्य वर्तमान – घोड़ा उठदा हो, घोड़े उठदे हों, घोड़ी उठदी हो, घोड़ियां उठदियां हों। 

(5) संदिग्ध वर्तमान – घोड़ा उठदा हंगा, घोड़े उठदे हुंगे, घोड़ी उठदी होगी, घोड़ियां उठदियां हुंगियां। 

(6) अपूर्ण संकेतार्थ – घोड़ा चलदा हुंदा, घोड़े चलदे हुंदे, घोड़ी चलदी हंदी घोड़ियां चलदियां हुंदियां। 

       इसी तरह भूतकालिक कृदन्त से भी छह कालों की रचना होती है : –

(1) सामान्य भूत – घोड़ा उठया, घोड़े उठे, घोड़ी उठी, घोड़ियां उठियां। 

(2) आसन्न भूत –  घोड़ा उठया ए, घोड़े उठे हन, घोड़ी उठी ए, घोड़ियां

                           उठियां हन। 

(3) पूर्ण भूत – घोड़ा उठया था, घोड़े उठे थे, घोड़ी उठी थी, घोड़ियां उठियां थियां। 

(4) सम्भाव्य भूत – घोड़ा उठया हो, घोड़े उठे हों, घोड़ी उठी हो, घोड़ियां उठियां हों। 

(5) संदिग्ध भूत – घोड़ा उठया हुंगा, घोड़े उठे हुंगे, घोड़ी उठी हुंगी, घोड़ियां उठियां हुंगियां। 

(6) पूर्ण संकेतार्थ – घोड़ा उठया हुंदा, घोड़े उठे हुंदे, घोड़ी उठी हुंदी, घोड़ियां उठियां हुंदियां । 

                   भीतरी शाखा की बोलियों में ‘उठया’ के स्थान पर ‘उठा’, उठों या उठू होगा। वहां स्त्रीलिंग बहुवचन रूप ‘घोड़िया’ आदि प्रचलित नहीं हैं। इन बोलियों में दोनों वचनों के लिए एकवचन के रूप ही प्रचलित हैं। बाहरी शाखा में जहां गागे-गी का प्रयोग हुआ है वहां भीतरी शाखा में ला-ले-ली का प्रयोग होगा।

सकर्मक क्रिया की स्थिति में कर्तृवाच्य में क्रिया कर्ता के लिंग-वचन के भेद पर नहीं बदलती। कर्ता किसी भी लिंग-वचन में हो क्रिया के सामान्य रूप पर अन्तर नहीं आता। इसलिए भूतकालिक कृदन्त से व्युत्पन्न सभी काल-रचना में क्रिया और सहायक क्रिया कर्ता के लिंग-वचन के आधार पर नहीं, वरन् कर्म के लिंग वचन के भेद पर बदलती हैं- मुन्नए/मुन्नीए अपणे भाईया जो पत्र लिखया मुन्नुए/मुन्नीए अपणे भाईया जो चिट्ठी लिखी, भाईया जो पत्र लिखे आदि।

Translate »
error: coming soon